पंचांग के अंगों के फल

               

पंचांग के अंगों के फल


             योग फल
विष्कुम्भ
रूपवान, भाग्यवान, अनेक तरह के अलंकारों से पूर्ण, बुद्धिमान और पंडित होता है|
प्रीति
स्त्रियों का प्यारा, तत्व को जानने वाला, उत्साही और स्वार्थ के लिए काम करने वाला होता है|
आयुष्मान
मानी, धनवान, शेर ओ शायरी करेने वाला, बहुत वर्षों तक जीने वाला,युद्ध में विजयी होता है|
सौभाग्य
राजा का मंत्री, सब कामो में चतुर और स्त्रियों का परम स्नेही होता है|
शोभन
रूपवान, अनेक पुत्र और स्त्री वाला, सब कामो में तत्पर और युद्धभूमि में जाने के लिए सर्वदा तैयार रहता है|
अतिगंड
माता के लिए अशुभ, माता का हंता और यदि गंडमूल में भी हो तो कुल का नाश करने वाला होता है|
सुकर्म
अच्छे कर्म करने वाला, प्यार से बात करने वाला, अच्छा स्वाभाव और ममता वाला होता है|
धृति
धैर्य रखने वाला (क्षमाशील), कीर्तिमान, धनवान, भाग्यवान,सुख से संपन्न और गुणी होता है|
शूल
पथरी(शूल) के दर्द से युक्त, धर्मात्मा, सभी शास्त्रों में निष्णांत, ज्ञानी और धन उपार्जन में कुशल और यज्ञ करने वाला होता है|
गंड
अनेक कष्ट भोगने वाला, बड़े सर वाला, छोटे शरीर वाला (ज्ञानी परन्तु मेहनत करने में रूचि नही होती है|), बलवान, अधिक भोग भोगने वाला और अपनी प्रतिज्ञा का पालन करने वाला होता है|
वृद्धि
रूपवान, अनेक स्त्री पुत्र से युक्त, धनी,भोगी और बलवान होता है|
ध्रुव
दीर्घायु, सबका प्यारा, स्थिर काम करने वाला, मेहनत से शक्तिसंपन्न और स्थिर दिमाग वाला होता है|
व्याघात
सबके बारे में जानकारी रखने वाला, सभी लोग इन्हें पसंद करें| सब तरह के काम करने वाला और नाम वाला होता है|
हर्षण
भाग्यवान, जिसकी घर में चलती हो उसका प्रिय होता है, जातक ढीठ, हमेशा पैसे वाला, विद्या और शास्त्र में निपुण होता है|
वज्र
कठोर स्वाभाव, भारी हाथ, विद्या और कुश्ती में निपुण, धन धान्य से युक्त, पराक्रमी और काम की बात जानने वाला होता है|
सिद्धि
सर्व सिद्धियो से युक्त, दान देने वाला और भोग करने वाला होता है| सुखी संपन्न होता है, कान्तिमान,रोने वाला रोगी होता है|
व्यतीपात
ऐसे व्यक्ति के जीने की संभावना कम होती है अर्थात एक बार जीवन में मौत का सामना होता है, और यदि जीवित रह जाए तो अति उत्तम जीवन भोगता है|
वरियान
शारीरिक रूप से बली, चित्र और कला में उत्तम, शास्त्रों को पढ़ने वाला, गान और नृत्य में कुशल होता है|
परिघ
कुल की उन्नति करने वाला, शास्त्रों को जानने वाला, सुन्दर काव्य रचने वाला, वक्ता, दानी, भोगी, और प्रिय वाणी बोलने वाला होता है|
शिव
सबका कल्याण चाहने वाला, दूसरों की परेशानियो को हल करने वाला, बुद्धिमान होता है|
सिद्ध
दूसरों का काम पूरा करवाने वाला, मन्त्र जाप करने वाला, सुन्दर स्त्री से युक्त और सब प्रकार के ऐश्वर्य से युक्त होता है|
साध्य
मानसिक रूप से शांत, यश और सुख पाता है|काम में देरी करने वाला और सबकी हाँ में हाँ मिलाने वाला होता है|
शुभ
शुभ कार्य करने वाला होता है, धनवान और ज्ञानी, दानी और विद्वानों का पूजक होता है|
शुक्ल
सभी कलाओं से युक्त, अंदर की बात जानने वाला, कवि, पराक्रमी, धनवान और सब लोगो का प्यारा होता है|
ब्रह्मा
विद्वानी, वेद और शास्त्रों में प्रवीण, सर्वदा प्रभु में आसक्त और सब कार्यों में कुशल होता है|
इन्द्र
राजा के सामान प्रताप शाली, अल्प आयु वाला, सुखी, भोगी और गुणी होता है|
वैधृति
ऊर्जा की कमी, भूख से पीड़ित होता है| मित्र बहुत होते है पर उसे सच्चे दोस्त नही मिलते है|

                     करण फल

बव शेर

मानी, धार्मिक, शुभ कार्य करने वाला और पक्का काम करने वाला होता है|

चलायमान
जातक स्वस्थ होता है
अपने काम को करने के बाद ही सन्तुष्टि को प्राप्त करता है
एक क्षेत्र के प्रति अधिकार रखता है अपनी पहिचान बनाता ह
अपने जीवन साथी और बच्चो की सुरक्षा कोरखता है
बुद्धि से काम लेता है
शत्रु को परास्त करने के लिये जीजान से लगता है
जीवन का बचपन और बुढापा कष्टकारी होता है
जंगल पहाड आदि प्रिय स्थान होते है

बालव चीता

तीर्थ और देवताओं का भक्त, विद्वान, धनवान, सुखी और जिसका राज हो उसका प्रिय होता है|
चलायमान
जातक अपनी सुरक्षा के प्रति आस्वस्त होता है
भाग दौड वाले काम मे सफ़ल होता है
लोग जल्दी से आदत को पहिचान नही पाते है
,ऊंचे स्थानो मे रहना पसंद करता है
अपने आसपास के माहौल पर अधिक ध्यान रखता है
,आक्रमक होता है गजब की फ़ुर्ती होती है
,दिन की बजाय रात को किये काम अधिक सफ़ल होते है
जन्म से जासूस होता है

अक्सर जीवन साथी सम्बन्धित मामले अधिक परेशान करने वाले होते है

कौलव सूअर

सभी लोगो से स्नेह रखने वाला, दोस्तों से बना कर रखने वाला और मानी होता है|
चलायमान
जातक का परिवार बडा होता है अपने परिवार की सुरक्षा के लिये ही धन को खर्च करना होता है निडरता होती है आवाज तेज होती है,
अपनी पहिचान बनाने के लिये कई प्रकार के उपक्रम करता है नीच जाति से संरक्षण प्राप्त होता है,
लोगो के अन्दर आदर का पात्र होता है
गले की बीमारिया परेशान करने वाली होती है
एक से अधिक रिस्ते
और समाज की मान्यतातो से दूर रहना भी अच्छा लगता है विजातीय शादी और विजातीय सभ्यता की तरफ़ अधिक आकर्षित होना होता है

तैतिल गधा

चलायमान
एक स्थान पर पडे रहना भोजन और आराम की तरफ़ अधिक ध्यान देना आलसी होना चुगली करना लोगो की खबरो को प्रसारित करना
कामोत्तेजना के समय मे अधिक चंचल हो जाना
कहे अनुसार ही काम करना अभाव मे स्वस्थ रहना और सम्पन्नता मे बीमारियों का लगना गर्म प्रदेश अच्छे लगना आदि बाते देखी जाती है

भाग्यशाली, सभी के साथ निभा कर चलने वाला होता है| घर में चित्र बने होते है विचित्र अजीब सा घर होता है|

गर हाथी

चलायमान
राज्य की चाहत रखना काम मे कम और आराम मे अधिक विस्वास करना
भले रहने पर सभी के साथ चलना बिगडने पर किसी का नही होना या खूनी हो जाना
रोजम्र्रा के कामो के अन्दर आलसी होना समय से सोना जागना सभी कुछ नही होना,
अधिक भोजन करना बल वाले काम करने के अन्दर आगे रहना आदि

कृषि करने वाला, घर के कामो में कुशल, जिस वस्तु पर दिल आ जाए उसे पाने के लिए बहुत मेहनत करते है|

वणिज सांड

चलायमान
जल्दी से क्रोध आजाना आवारापन पर विस्वास करना किसी का कहना नही मानना पुरुष महिलाओ की तरफ़ और महिला पुरुषो की तरफ़ अधिक आकर्षित होना
रहने वाले स्थान को बार बार बदलते रहना
दूसरे की सम्पत्ति को प्राप्त करने के लिये जी जान लगा देना
,विरोधी का डट कर मौत से भी जूझ कर सामना करना या तो परास्त होकर मर जाना या मार देना आदि बाते देखी जाती है

व्यापार से जीविका चलाने वाला होता है, देश विदेश के गमन से इन्हें अत्यधिक लाभ प्राप्त होता है|

विष्टि उल्लू

चलायमान
पाप के कामो मे आगे रहना चोरी डकैती बलवान को भी परास्त करने की आशा रखना
सभी से विरोध वाले काम करना गुप्त कामो मे लगे रहना गुप्त निवास रखना
रात को अधिक सक्रिय हो जाना घर के सदस्यो के साथ उनके बालिग होने तक ही साथ देना हिंसा पर अधिक ध्यान देना
शराब कबाब तामसी भोजन की रुचि बनी रहना किसी भी प्रकार के खतरे को जल्दी भांप लेने की आदत होना और खतरा आने के पहले ही पलायन कर जाना पुराने हवेली या महल जैसे स्थान मे रहना पसंद करना इतिहास की अधिक जानकारी रखना आदि

अनुचित कार्य करने वाला, दूसरों की स्त्रियों में रूचि रखने वाला और विष और विध्वंसक कार्यों में निपुण होता है|

शकुनि चिडिया

स्थिर
अपनी सुरक्षा अपने आप करना अपने ही कुल के लोगो से विश्वासघात होना
पति पत्नी के साथ ही जीवन मे रहना अन्य के साथ रहने मे दिक्कत का होना सामूहिक परिवार मे केवल भोजन और सुरक्षा के समय मे ही रहना
लडाई झगडे अधिकतर सम्बन्धो के मामले मे ही होना आदि बाते देखी जाती है

दूसरे के शरीर को पुष्ट(मजबूत) करने वाला होता है| औषधि बनाने में चतुर और वैधक से आजीविका चलाने वाला होता है|

चतुष्पद कुत्ता

स्थिर
गरीब होना लेकिन विलासी भी होना अपने पास जो है उससे अधिक दिखावा करना
अपने ही कुल के लोगो से लडाई झगडा करते रहना पुरुष की वजाय स्त्रियों का अधिक क्रियाशील होना एक ही स्थान पर बने रहने की आदत होना
जो मिल जाये उसी पर संतोष कर लेना सम्बन्धो के मामले मे शरीर कष्ट होना सर्व भक्षी होना आदि बाते देखी जाती है

देवता और ब्राह्मणों में भक्ति रखने वाला, गौओ की सेवा करने वाला, गौ का मालिक, पशुओ का चिकित्सक होता है|

नाग सर्प

स्थिर
स्वाभिमान को हमेशा कायम रखना अपनी कही बात को पूरा करना एक से अधिक जीविका के साधन बनाकर रखना गुप्त रूप से कार्य करना कुछ करना और कुछ साबित करना बोलने मे कडक होना जिससे एक बार मिल लिया जाये उसे आजीवन याद रखने के लिये कारण बना देना,हर छ: महिने मे रूप का बदल लेना स्वभाव मे बदलाव आजाना आदि बाते देखी जाती है

मल्हाओ(नाव चलाने वाले/निम्न जाति) से मित्रता रखता है| मुश्किल काम आसानी से कर लेता है| कुरूप और चंचल नेत्र वाला होता है|
(पत्नी भी कुरूप हो सकती है|)

किन्स्तुघन कीडे मकौडे

स्थिर
जातक अपने कुल की रक्षा करने वाला होता है एक सा थ
रहना पसंद करता है किसी भी शत्रु पर मिलकर हमला करना और एक साथ दबोच लेना माना
जाता है
अपने से बलवान को भी परास्त कर देने की कला होती है,
अलगाव मे समाप्त हो जाना
अधिक गर्मी या अधिक सर्दी सहन नही कर पाना पानी वाले स्थानो मे भीड के साथ रहना आदि माना जाता है

शुभ कार्य करने वाला, संतोषी,बली और मंगल और सिद्धि को प्राप्त करता है|

                    तिथि फल
कृष्ण फल

निष्ठुर, खराब मुख, स्त्री के साथ द्वेष रखने वाला, बुद्धि हीन, अधिक परिवार से युक्त होता है|

शुक्ल पक्ष

कान्तिवाला,लक्ष्मीवान, मेहनती, शास्त्रों का ज्ञाता और ज्ञान से लाभ होता है|

प्रतिपदा

मनुष्य पापियों के साथ संगत करता है, धन की कमी, कुल को संताप देने वाला, ऐब करने वाला होता है|

द्वितीय

पराई स्त्री में आसक्ति, सत्य और पवित्रता से हीन, चोर और ममता से हीन होता है|

तृतीय

चैतन्य से रहित, अत्यंत विकल, द्रव्य से हीन और दूसरों से द्वेष करने वाला होता है|

चतुर्थी

भोगी और दाता, मित्रों के साथ स्नेह करने वाला, पंडित, संतान से युक्त होता है|

पंचमी

सब के साथ बनाने वाला, माता पिता की रक्षा करने वाला, गुणों को ग्रहण करने वाला, अपने शरीर से प्रसन्न रहता है|

षष्ठी

अनेक देशो में गमन करने वाला, सदा झगडा करने वाला, केवल अपना भरण पोषण के बारे में सोचता है|

सप्तमी

मनुष्य थोड़े में संतोष पाने वाला, तेज युक्त, सौभाग्यवान, गुणों से युक्त, पुत्रवान और सम्पतिवान होता है|

अष्टमी

धर्मात्मा, सच बोलने वाला, दानी, भोगी और ममतावान होता है| गुणों को जानने वाला और सब कामो के प्रति सजग रहता है|

नवमी

देवताओं का पूजक, पुत्र और धन में आसक्ति, शास्त्रों के अभ्यास करता है|

दशमी

गलत सही में फर्क करने वाला, देवताओं की सेवा करने वाला, यज्ञ करने वाला, तेजस्वी और सदा सुखी रहता है|

एकादशी

कम में संतोष करने वाला, राजाओ के घर में रहने वाला(राजसिक घर में रहने वाला), पवित्र, धनवान, पुत्रवान/पुत्री* और बुद्धिमान होता है|

द्वादशी

चपल और चंचल ज्ञान वाला होता है, कमजोर शरीर वाला और देशो में घूमने वाला होता है|

त्रयोदशी

सिद्ध पुरुष, पंडित, शास्त्रों का अभ्यास करने वाला, इन्द्रियों पर नियंत्रण रखता है और परोपकारी होता है|

चतुर्दशी

धनी, धरमात्मा, वीर,बडो के वाकयो का पालन करने वाला होता है, राजा से मान पाने वाला यशस्वी होता है|

पूर्णिमा

लक्ष्मीवान, बुद्धिमान, महत्व आकांक्षी, उत्साही और दूसरे की स्त्री में आसक्ति रखने वाला होता है|

अमावस्या

आलसी, दूसरों के साथ द्वेष रखने वाला, कुटिल, पराक्रमी, बेवक़ूफ़ को समझाने वाला होता है|

                          वार फल

रविवार
पित्त अधिक होता है, अधिक चतुर, तेजस्वी, झगडे के शौक़ीन, दानी और अत्यंत उत्साही होता है।

चन्द्रवार
बुद्धिमान, मधुर बोलने वाला, शांत रहने वाला, राजा के नौकरी करने वाला, दुःख और सुख में सामान रहने वाला होता है|
भौमवार
टेढ़ी बुद्धि वाला, दीर्घायु, झगडे में उत्साह रखने वाला, बलवान, अपने परिवार के पालन में प्रधान होता है|
बुधवार
लिखने पढ़ने का शौक़ीन और उस से घर चलाने वाला, मीठी वाणी बोलने वाला, बुद्धिमान, रूप और धन से संपन्न होता है|
बृहस्पतिवार
धनी, विद्वान और गुणों से युक्त, विचारवान,जनसमूहों से पूजित,आचार्य या राजा का मंत्री होता है|
शुक्रवार
चंचल चित वाला(ऐबी), पूजा पाठ में कम विश्वास करने वाला, सदा पैसे के खेल में लगे में रहने वाला, बुद्धिमान, सुन्दर और मन को हरने वाले वचन बोलता है|
शनिवार
स्थिर वचन बोलने वाला( अपनी बात पर अडिग रहने वाला), क्रूर, दुखी, पराक्रमी, नीच दृष्टिवाला, अधिक केशवाला और सदा वृद्ध स्त्रियों में रत होता है|

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *